दूध उत्पादन में भैंस पालन एक अच्छा व्यवसाय

भारत जैसे कृषि प्रधान देश में पशुपालन का विशेष महत्व होने के कारण देश की अर्थव्यवस्था में भैंस पालन (दूध उत्पादन) की अहम भूमिका है। भैंस पालन व्यवसाय रोजगार एवं आय का एक मुख्य साधन बन सकता है।

buy modafinil nyc मेहसाणा भैंस भारत की प्रमुख भैंस नस्लों में से एक है। गुजरात राज्य के मेहसाणा जिले में उत्पन्न होने के कारण इसे मेहसाणा या मेहसानी नाम से भी जाना जाता है। मेहसाणा नस्ल गुजरात के साबरकांठा, बनासकांठा, अहमदाबाद और गांधीनगर जिलों में पाई जाती हैं। यह एक संकर नस्ल हैं, जो मुर्रा x सुरती के क्रॉस से बनाई गई है। इसका दूधस्रवण काल अपेक्षाकृत लंबा और दूध हिन काल छोटा होता है। यह भैंस अच्छी दुग्ध उत्पादक मानी जाती है।

http://rs-gold-fans.com/tag/runescape-skill/ डेरी व्यवसाय के लिहाज से मेहसानी भैंस पालन उत्तम मानी जाती हैं।

मेहसाणा भैंस की शारीरिक पहचान

इस नस्ल की भैंस काले, भूरे और सलेटी रंग में पायी जाती है। इसका शरीर मुर्रा भैंस की तुलना में बड़ा होता है, लेकिन वजन उससे कम होता है। सींग आमतौर पर सुरति नस्ल की भांति लम्बी दरांती के आकार और मुर्रा नस्ल की भांति घुमावदार पाए जाते हैं क्योंकि यह नस्ल मुर्रा और सुरति नस्ल की संकर नस्ल हैं तथा इसके थन व पिछला धड़ मुर्रा के समान पाया जाता हैं।

प्रमुख विशेषताएँ

मेहसाणा भैंस अपनी अच्छी प्रजनन क्षमता के लिए प्रसिद्ध है, क्योंकि इसका दूधकाल लम्बा तथा दूधहीन काल छोटा होता हैं। पानी की कमी की स्थिति में जीवित रहने, उच्च दूध उत्पादकता और रोग प्रतिरोध की अच्छी क्षमता इस भैंस के ख़ास गुण है। इसलिए यह भैंस व्यावसायिक डेयरी फार्म की दृष्टि से उत्तम मानी जाती हैं।

वजन

इसके नर का औसत वजन 560 किलोग्राम और मादा का वजन 480 किलोग्राम के आसपास होता है।

दूध उत्पादन

मेहसाना का प्रथम ब्यांत का औसत समय 42-48 महीने का होता है। इसका प्रसव अंतराल 10-31 महीने का होता है। मेहसाना भैंस प्रतिदिन 5 – 8 लीटर तक दूध देती हैं, अच्छा प्रबंधन और उच्च पोषण के साथ, ये भैंसे प्रतिदिन 10 लीटर तक दूध दे सकती हैं। इसके दूध में वसा 9%  तक  होता है।